Unemployment Dream Formula 2.0 : बेरोज़गारी खत्म करने का गणित

 

आखिर, बेरोज़गारी खत्म करने वाला Unemployment Dream Formula 2.0 क्या है ? और कैसे काम करता है ?

 

 

Note : यह एक डायरेक्ट सेलिंग बिज़नेस मॉडल है जिसने आज तक दुनिया को सबसे ज्यादा करोड़पति दिए है।  

 

आइये जानते है की कैसे हमने बेरोज़गारी खत्म करने हेतु फॉर्मूला बनाया है ?

 

 

 

सूत्र : Learn + Work = Earn Money

 

 

 

 

First Part : Learn

 

 

 

 

 

पहले हम सपनों के बारे मे थोड़ा सा डिस्कस कर लेते है, लोग अपने सपनों के बारे मे ही नहीं सोचते है, लोगो के सपने बहुत बड़े है, हर व्यक्ति के
सपने अलग अलग हो सकते है जैसे किसी का सपना

 

 

 

 

  • बहुत सारा पैसा
  • कार
  • सपनों का घर
  • टाइम  
  • हैल्थ
  • देशभक्ति या समाजसेवा
  • अन्य

 

 

 

 

सपने की असली परिभाषा : वर्तमान मे असंभव चीज़ के बारे मे सोचना ही सपना है !

 

 

 

 

 

दुनिया मे पैसा कमाने के मामले मे केवल चार तरीके के लोग होते है ।

 

 

 

 

 

#1. कर्मचारी:- यह वह व्यक्ति होता है जो किसी व्यक्ति,सरकार या कंपनी मे जॉब करता है, यह अपना समय बेचता है जिसके बदले एक इनकम उसे प्राप्त होती है ।

 

 

 

 

#2. स्व-कर्मचारी:- यह वह लोग होते है जो छोटा मोटा धंधा करते है, ये भी अपना समय धंधे मे लगाकर पैसा कमाते है, उदाहरण: कोई डॉक्टर है जिसने अपनी खुद की क्लीनिक खोल ली, सीए हुआ, वकील हुए, दुकानदार इत्यादि ।

 

 

 

 

#3. निवेशक:- यह व्यक्ति पैसों से पैसा बनाता है, मतलब शेयर मार्किट आदि में पैसा लगाता है, इसके पास पहले से बहुत पैसा होता है यह जिंदगी मे बहुत पैसा कमा चुका होता है ।

 

 

 

 

#4. बिज़नस मालिक:- यह लोग एक सिस्टम (नेटवर्क) बनाते है जिसमे हज़ारो लोग काम करते है, जैसे फेसबूक, गूगल, अलीबाबा, रिलायंस आदि कंपनी के मालिक।

 

 

 

 

 

मैं कर्मचारी एवं स्व-कर्मचारी को एक A  कैटेगरी

 

 

 

 

निवेशक एवं बिज़नस मालिक को B  कैटेगरी मान लेता हूँ

 

 

 

 

 

एक सर्वे हुआ जिसमे यह बात सामने आई थी की पूरी दुनिया मे A कैटेगरी मे आने वाले लोगो की संख्या पूरी दुनिया की जनसंख्या मे से 95% है ।

 

 

 

 

तबकि B कैटेगरी मे आने वाले लोगो की संख्या पूरी दुनिया की जनसख्या मे से 5% है ।

 

 

 

 

 

मजेदार बात यह है की A कैटेगरी के लोगो के पास दुनिया का केवल 5% पैसा मात्र है जबकि B कैटेगरी के लोगो के पास दुनिया का 95% पैसा है ।

 

 

 

 

 

अगर दुनिया का टोटल पैसा A और B कैटेगरी के लोगो मे बराबर बाँट दिया जाए तो अगले पाँच साल मे होगा यह की दोबारा A कैटेगरी के लोगो के पास 5% पैसा और B कैटेगरी के लोगो के पास 95% होगा ।

 

 

 

 

 

इस विभाजन को हम कितनी ही बार क्यो न करले हमेशा यही स्थिति वापस बन जाएगी ।

 

 

 

 

 

जब कारण खोजा गया तो एक सिद्धांत सामने आया और वह है अमीरी का सिद्धांत !

 

 

 

 

 

A कैटेगरी के लोग इस फोर्मूले का इस्तेमाल करते है-

 

 

 

 

फॉर्मूला नंबर 01: सीमित व्यक्ति *सीमित समय = सीमित आमदनी

 

 

 

 

 

B कैटेगरी के लोग इस फोर्मूले का इस्तेमाल करते है- जिसे अमीरी का सिद्धांत कहते है ।

 

 

 

 

फॉर्मूला नंबर 02: असीमित व्यक्ति * असीमित समय = असीमित आमदनी

 

 

 

 

 

मैं दो तरह के सब्जी बेचने वाले लोगो को जानता हूँ, एक वो जो 10 साल से मेरे मुहल्ले मे सब्जी बेचने आता है और आज तक अमीर नहीं हुआ, और दूसरा वो जो अपने घर बैठे बैठे सब्जी बेच देता है और करोड़ो कमा लेता है, जी हाँ मैं मुकेश अंबानी के मोल रिलायंस फ्रेश की बात कर रहा हू,

 

 

 

 

 

 

 

 

 

ऐसा इसलिए क्योकि हमारे मुहल्ले मे सब्जी बेचने आने वाला व्यक्ति फॉर्मूला नंबर 01 का इस्तेमाल करता
है,

 

 

 

 

दुनिया के प्रत्येक व्यक्ति के पास 24 घण्टे होते है ।

 

 

 

 

 

उदाहरण: माना मुहल्ले – मुहल्ले जाकर सब्जी बेचने जाने वाले व्यक्ति का नाम रमेश है ।

 

 

 

 

 

माना रमेश 24 घण्टों मे से 8 घण्टे सब्जी बेचने के लिए जाता है और प्रति घण्टा 100 रुपये के हिसाब से 8 घण्टे मे 800 रुपये कमा लेता है ।

 

 

 

 

 

अगर उसे ज्यादा रुपये कमाना हो तो उसे अपने काम करने के घण्टे बढ़ाने होगे ।

 

 

 

 

 

मानलों, रमेश बहुत मेहनती व्यक्ति है और अब वह 12 घण्टे काम करने लगता है मतलब सब्जी बेचने जाता है, तो 100 रुपये प्रति घण्टा के हिसाब से 12 घण्टों मे 1200 रुपये कमा लेता है ।

 

 

 

 

मतलब व्यक्ति एक है इसलिए उसके पास टाइम भी सीमित हो जाता है और जब लोग और टाइम सीमित है तो उसकी आमदनी भी सीमित होगी ।

 

 

 

 

 

अब बात करते है दूसरे सब्जी वाले की यानि मुकेश अंबानी की ।

 

 

 

 

रमेश केवल एक व्यक्ति था और 1200 रुपये कमा रहा था, लेकिन मुकेश जी ने 1 हजार लोग काम पर रख लिए और Reliance Fresh नाम के कुछ मॉल खोल दिये अब मुकेश जी के पास सब्जी बेचने वाले 1 हजार लोग हो गए, हर व्यक्ति 8 घण्टे काम कर रहा है तो इस हिसाब 8000 घण्टे का काम होता है, और जब 24 घण्टों मे 8000 घण्टे का काम होता है तो आमदनी भी अधिक होगी ।

 

 

 

 

यानि लोग असीमित, तो असीमित समय और जब लोग और टाइम असीमित, तो आमदनी भी अंसीमित होगी ।

 

 

 

 

 

मानलों, किसी कारण वश रमेश काम करने लायक न बचे तो क्या उसकी आमदनी होगी ?

 

 

 

 

 

जबाब है – नहीं !

 

 

 

 

 

लेकिन यदि मुकेश अंबानी के 1 हजार लोगो मे से 1 व्यक्ति भी यदि काम न करे तो भी उनकी आमदनी होती रहेगी ।

 

 

 

 

 

सवाल: कौन अमीर होगा, रमेश  मुकेश अंबानी ?

 

 

 

 

 

उत्तर: मुकेश अंबानी अमीर होगे, क्योकि इनहोने फॉर्मूला नंबर 02 का इस्तेमाल किया है ।

 

 

 

 

 

यही कारण है की कंपनियों के मालिक जल्दी अमीर हो जाते है, उनके यहाँ एक दिन मे हजारों घण्टों का काम होता है, मतलब फॉर्मूला नंबर 02.

 

 

 

 

 

अगर आपको अमीर बनना है और अपने सभी सपने पूरे करना है तो आपको फॉर्मूला नंबर 02 का इस्तेमाल करने की जरूरत है ।

 

 

 

 

 

फॉर्मूला नंबर 02 इस्तेमाल करने के लिए जरूरी है की आपको अपना खुद का बड़ा बिज़नेस करना होगा ।

 

 

 

 

 

एक सवाल : एक बड़ा बिज़नेस करने के लिए किन-किन चीज़ों की जरूरत पड़ती है ?

 

 

 

 

 

  • मैन पावर
  • बहुत सारा पैसा
  • बिज़नस का ज्ञान
  • कानूनी जानकारी
  • 100% रिस्क
  • हाई कॉम्पिटिशन

 

 

 

 

इनमे से एक भी चीज़ की कमी होने पर आपका बिज़नेस नहीं चल पाएगा, और अगर सभी चीजे आपके पास है भी तो भी कोई गारंटी नहीं है की आप सफल होगे ही ।

 

 

 

 

 

यदि आपके पास बिज़नेस करने के लिए ऊपर बताई गई 6 चीजे नहीं है, तो फिर आप क्या करेगे ?

 

 

 

 

 

जबाब: आप नौकरी कर कर सकते
है।

 

 

 

 

 

अब बात करते है नौकरी की: चलिये, कुछ आकड़े देखते है की भारत मे कुल कितनी नौकरी है और कितने लोग अभी किस-किस डिपार्टमेन्ट मे नौकरी कर रहे है ।

 

 

 

 

 

सबसे अधिक Jobs देने वाले डिपार्टमेंट:

 

 

 

 

 

  • इंडियन रेल्वे: वर्तमान मे 14 लाख लोग इसमे काम कर रहे है मतलब नौकरी ।
  • इंडियन आर्म फोर्स: 13 लाख लोग इसमे नौकरी पर है ।
  • इंडियन पोस्ट: 4.9 लाख लोग जॉब कर रहे है ।
  •  

 

 

 

 

हर साल लगभग 8 लाख के आस-पास New Jobs निकलती है।  

 

 

 

 

 

हम ऐसे माहोल मे रहते है जहाँ लोग इंजीनियर, डॉक्टर, वकील आदि नौकरी करने की सलाह देते है, लेकिन आज समस्या यह है की सरकारी हो या प्राइवेट नौकरी की कमी है, भारत मे हर साल 90 लाख कॉलेज स्टूडेंट अपनी पढ़ाई पूरी कर लेते है और फिर उसके बाद उन्हे नौकरी की जरूरत पड़ती है तो क्या 90 लाख New Jobs हर साल Create होती है, जबाब है नही!

 

 

 

 

 

अब Zee News के यह दो विडियो देखे इनमे बहुत कुछ Learn करने के लिए है ।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

चलिये हम आपसे कुछ सवाल पूछते है ?

 

 

 

 

  • क्या आप चाय पीते है ?
  • क्या आप खाना खाते है ?
  • क्या आप क्रीम/पाउडर
    लगाते है ?
  • इत्यादि !

 

 

 

 

 

अब सवाल यह आता है की कैसे चाय, खाना, क्रीम, पाउडर लगाकर लगाकर देश की बेरोज़गारी खत्म हो सकती है ?

 

 

 

 

 

जबाब: अभी तक आप मार्केट से अपने घर मे इस्तेमाल होने वाली चीजे बहुत सालों से खरीदते आ रहे है, क्या आपको खर्चा करने पर पैसा मिलता है ? यदि हाँ तो आगे न पढे और यदि नहीं तो आगे पढे…

 

 

 

 

 

एक सवाल: क्या आप बेरोज़गारी खत्म करने के लिए दुकान और ब्रांड बदल सकते है?

 

 

 

 

 

यदि हाँ, तो इस फोर्मूले के इस्तेमाल से आपकी बेरोज़गारी 100% समाप्त हो जाएगी जिंदगी भर के लिए,

 

 

 

 

 

आप अभी तक मार्केट मे उपलब्ध जिस भी दुकान से अपने घर मे इस्तेमाल होने वाला समान खरीदते आ रहे थे, उसे स्मार्ट दुकान से खरीदे, ऐसा करने पर आपको बहुत सारे लाभ मिलेगे और बेरोज़गारी खत्म करने का फॉर्मूला की रीड़ की हड्डी यही से बनती है। चलिये मार्केट की दुकान और स्मार्ट दुकान मे कुछ अंतर जान लेते है-

 

 

 

 

 

 

 

 

जी हाँ,

 

 

 

 

 

अब उदाहरण
लेते है:

 

 

 

 

 

मान लीजिये आपके घर मे Rs. 3000/- का समान महीने में (तेल,शैम्पू,साबुन,डिटर्जेंट आदि) खर्च हो जाता है अब यदि यही समान आप स्मार्ट दुकान से खरीदे तो-

 

 

 

 

 

 

 

 

 

#1. 3000/- रुपये का समान आपने स्मार्ट दुकान से खरीदा, ऊपर लिस्ट मे दिये गए फायदे अनुसार, स्मार्ट दुकान देती है हर खरीदी पर 10% से 20% का डिस्काउंट

 

 

 

 

 

Rs. 3000/- का सामान आपको लगभग Rs. 2500/- में पड़ा।

 

 

 

 

 

#2. स्मार्ट दुकान देती है हर खरीदी पर 10% के प्रॉडक्ट फ्री यानि Rs. 2500/- का 10% के हिसाब से आपको Rs. 250/- का समान मुफ्त मिलेगा।

 

 

 

 

 

#3. स्मार्ट दुकान आपको देती है हर खरीद पर 5% से 20% Cashback.

 

 

 

 

 

Rs. 2500/- पर 5% Rs. 75/- और 20% पर Rs. 299/-

 

 

 

 

 

Note: Cashback PV ( Point Value) और BV ( Business Volume ) के आधार पर मिलता है।

 

 

 

 

 

#4. 6 महीनो तक लगातार खरीदने पर सातवे महीने मे Rs. 3000/- का सामान मुफ्त गिफ्ट के तौर पर दिया जाता है

 

 

 

 

 

Discount 20% + Free Product 10% + Cashback 20% + Consistency Offer 17% = Total Saving 67%

 

 

 

 

 

कुल मिलाकर आपको अपनी खरीदी पर 67% की बचत हो रही है, इस हिसाब से आपको Rs. 3000/- का सामान Rs. 990/- मे पड़ा ।

 

 

 

 

 

स्मार्ट दुकान के Product की विशेषताएं

 

 

 

 

  • विश्व स्तरीय उत्पाद
  • कैमिकल मुक्त उत्पाद
  • 100% मनीबैक गारन्टी
  • And Much More

 

 

 

 

 

सवाल: आप अपने घर का सामान कहा से खरीदना पसंद करेंगे ?

 

 

 

 

 

जबाब: कमेंट में लिखे !

 

 

 

 

Second Part: Work

 

 

 

 

 

अब बात आती है की Work यानि काम क्या करना होगा ? आपको सिर्फ 3 काम ही करने है जानते है की वह 3 काम क्या है ?

 

 

 

 

 

 

 

 

 

  1. दुकान और ब्रांड बदले यानि स्मार्ट दुकान से खरीदी करे जो आप अभी तक कही और से खरीदते आ रहे थे ।
  2. एक महीने मे 6 ऐसे लोगो की मदद करे जो बेरोज़गार है या अपनी नौकरी से खुश नहीं है, उन्हे बेरोज़गारी के इस फोर्मूले के बारे मे बताए और उनसे इस फोर्मूले को फॉलो करवाए ताकि आपके द्वारा किसी की मदद हो सके।  

 

 

 

 

वैसे ही जैसे एक फिल्म है जिसमे फिल्म का मैन एक्टर 3 लोगो की मदद करता है और उनसे भी तीन-तीन लोगो की मदद करने के लिए कहता है, और वह लोग भी तीन-तीन लोगो की मदद करते है इस तरह यह प्रक्रिया चलती रहती है और एक बहुत बड़ी टीम बन जाती है ।

 

 

 

 

 

इसी प्रकार इस फोर्मूले मे भी बहुत बड़ी टीम बन जाती है यानि फॉर्मूला नंबर 02 का इस्तेमाल होने लगता है।

 

 

 

 

 

चलिये Repeat करते है फॉर्मूला नंबर 02

 

 

 

 

 

असीमित लोग * असीमित समय = असीमित आमदनी

 

 

 

 

 

 

 

 

 

3. आप जिन लोगो की मदद करेगे उनके साथ Selife  लेकर Whatsapp Group  या facebook  या Narbariya.com  पर Upload करना है ताकि आपकी टीम जोश से भरी रहे ।

 

Unemployment Dream Formula 2.0: आपको बिज़नेसमैन बनाता है, इसकी पूरी ट्रेनिंग दी जाएगी, आपको किसी भी इन्वेस्टमेंट की जरुरत नहीं है।

 

 

 

 

 

Third Part : Earn Money

 

 

 

 

 

इस प्रकार चौथे महीने प्रत्येक व्यक्ति की आमदनी जो बेरोज़गारी के इस फोर्मूले को फॉलो करता है Rs.1,00,000/- महिना नियमित होगी और यही नहीं यह आमदनी आपके बाद आपके बच्चों को भी ट्रान्सफर की जाएगी, वैसे ही जैसे आपकी संपत्ति वसीयत के रूप मे आपके वारिशदार को दी जाती है । (यह आमदनी 7 पीढ़ी तक Transfer  होगी)

आपको आमदनी किन स्रोतों के द्वारा कैसे प्राप्त होती है आपको इसकी पूरी जानकारी दी जाएगी। ( One Meeting आपकी ज़िंदगी में कुछ बदलाब ला सकती है ) इसलिए Ek Mulakat….. जरुरी है। 

 

 

 

अत: Learn + Work  = Earn Money Unlimited.

 

 

 

 

 

Unemployment Dream Formula 2.0 में कैसे शामिल हो ?

 

 

 

 

  1. Registration Form को भरे ( Registration Fee Only Rs. 0/- )
  2. उसके बाद 24 घण्टों के अंदर आपसे SMS/Email/Call द्वारा संपर्क किया जाएगा ।

 

 

 

 

रजिस्ट्रेशन के लिए यहाँ क्लिक करे

 

 

 

 

Unemployment Dream Formula 2.0 नेटवर्क मार्केटिंग कांसेप्ट पर आधारित है, समय-समय पर जानकारी अपडेट की जाती रहेगी,

 

 

 

 

 

नए भारत का है सपना, होगी खत्म अब शिक्षित और अशिक्षित बेरोज़गारी !

Lakshya Narbariya

 

 

शीर्ष तक स्क्रॉल करें
Need Help? Chat with us