HomeArtificial Intelligenceआर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है और कैसे काम करता है?

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है और कैसे काम करता है?

क्या आप जानते है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है, और कैसे काम करता है?

AI बोले तो कृत्रिम बुद्धीमत्ता, कृत्रिम दिमाग या आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जब से World में Computer और अन्य मशीनों का विकास हुआ तब से मानव के बहुत सारे कार्य तेजी से होना शुरू हुए।

लेकिन आजकल Artificial intelligence in Hindi का बोलबाला चल रहा है जिसने पूरी दुनिया में हंगामा मचा दिया है, हालांकि इसकी शुरुआत बहुत पहले हो चुकी थी लेकिन इसे असली उड़ान अब मिली है।

आपने Robot Sofia का नाम तो सुना ही होगा वह भी AI द्वारा Devlop की गई रोबोट है।

Artificial intelligence: Computer System का ही एक सिद्धांत है जो ऐसे कार्यों को कर सकता है जिनमे मानवों की जरुरत होती है भाषण देना, सोचना, फैसले लेना, कुछ भी सीखना, कुलमिलाकर मानव बुद्धि की विशेषताओं को ही मशीन में Implement करना ही एआई का उद्देश्य है।

अगर आप कृत्रिम बुद्धिमत्ता के बारे में जानकारी नहीं रखते है तो कोई बात नहीं यहाँ हम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है, और यह क्यों जरुरी है इसका इतिहास और प्रकार इत्यादि टॉपिक पर बात करेंगे।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है इन हिंदी

जॉन मैकार्थी, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जनक है जिनके अनुसार, Artificial intelligence बुद्धिमान मशीन विशेष रूप से बुद्धिमान कंप्यूटर प्रोग्राम बनाने वाला विज्ञान और इंजिनियरिंग है।

AI का फुल फॉर्म Artificial Intelligence है.

Full Form

AI एक ऐसा कंप्यूटर बनाने का तरीका है, एक कंप्यूटर नियंत्रित रोबोट या एक बुद्धिमान सॉफ्टवेयर जो उसी तरह से सोचता है जैसे एक बुद्धिमान मानव सोचता है।

एआई का अध्ययन इस बात से होता है कि एक इंसान कैसे सोचता है, कैसे किसी काम को सीखता है, कैसे वह निर्णय लेता है और फिर कैसे वह अपने पिछले अनुभवों से सीखता है.

Artificial Intelligence Process

इन सभी तथ्यों का अध्ययन करके एक बुद्धिमान कंप्यूटर आधारित मशीन तैयार की जाती है, जिसमे AI तीन Process से गुजरता है जो निम्न है-

  1. Learning: इस Process में मशीनों के Mind में वह Information और Rules Upload किये जाते है जिससे कि वह किसी भी कार्य को सूचना को फॉलो करते हुए सम्पूर्ण कर सकती है।
  2. Reasoning: इस प्रोसेस के अंतर्गत मशीनों के दिए गए निर्देश के अनुसार वह सही Result लाने की ओर अग्रसर होकर एक Right Conclusion तक पहुंचे।
  3. Self Correction: यह एआई का तीसरा प्रोसेस है।

Artificial Intelligence Philosophy

कंप्यूटर की क्षमताओं को बढ़ाते बढ़ाते इंसान यह सोचने में मजबूर हो गया कि ” क्या कोई मशीन इंसानो के तरह सोच सकती है ? ” इस प्रकार AI का विकास हुआ जो मनुष्यों से उच्च Result दे सकते है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के लक्ष्य

  • Expert System तैयार करना: वे सिस्टम जो बुद्धिमान व्यवहार कर सकते है, सीखते है, सीखाते है, और Users को सलाह देते है।
  • मशीनों में इंसानी दिमाग का प्रयोग: ऐसी मशीनें तैयार करना जी मनुष्य की तरह सोच सकती है, व्यवहार कर सकती है।

AI Technique क्या है?

इस दुनिया में अनेक कार्य अकल्पनीय, अव्यवस्थित, अनुछुए है, जो लगातार बदलते रहते है AI Technique इस तरह से कुशलतापूर्वक ज्ञान को व्यवस्थित करने और उपयोग करने का एक आसान तरीका है

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के प्रकार

जी प्रकार विभिन्न प्रकारों के Computer हुआ करते यही ठीक वैसे ही AI के प्रकार भी होते है जो मुख्य रूप से 2 होते है-

  1. Weak AI
  2. Strong AI

Week AI

इसे नैरो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस भी कहते है इस प्रकार का AI एक विशेष Domain के अंदर ही निपुण होता है मतलब अगर आपके कंप्यूटर Chase Ka Game खेलने में Expert है तो वह Chase के आलावा किसी और प्रकार का कार्य नहीं कर सकता है इसलिए इसे Week AI कहते है।

Strong AI

इसमें और मनुष्य में कोई अंतर नहीं रह जाता है इस प्रकार का एआई उन कामो को आसानी से कर सकता हो जो काम इंसान आसानी से करते है इसलिए इसे Strong AI कहा जाता है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के अनुप्रयोग

  1. Gaming
  2. Natural Language Processing
  3. Expert Systems
  4. Vision Systems
  5. Speech Recognition
  6. Handwriting Recognition
  7. Intelligent Robots

Gaming

एआई खेल जैसे शतरंज, लूडो, पोकर जैसे खेलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Natural Language Processing

AI के द्वारा कंप्यूटर से बात करना संभव है जो इंसानी भाषा को समझ सकता है।

Expert Systems

ऐसे एप्लीकेशन तैयार किये जा सकते है जो इंसानो की तरह तर्क कर सकते है और उपयोगकर्ता को सलाह दे सकते है।

Vision Systems

इस प्रकार के सिस्टम computer पर Visual Input को समझते है उनकी व्याख्या भी कर सकते है।

  1. एक जासूसी करने वाला हवाई जहाज जो धरती की तस्वीरें लेता है जिनका इस्तेमाल स्थानीय जानकारी एवं नक्से बनाने में किया जाता है।
  2. पुलिस कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके अपराधी का चेहरा बना सकती है।

Speech Recognition

कुछ बुद्धिमान AI भाषा के वाक्यों और उनके अर्थो को समझ और सुन सकते है।

Handwriting Recognition

इस तकनीक से बने सॉफ्टवेयर कहाज पर लिखे अक्षरों को उनकी Styles द्वारा समझ सकते है, और उनके आकारों को भी समझ सकते है एवं उन्हें Edit करने योग्य भी बना सकते है।

Intelligent Robots

रोबोट आसानी से इंसानी कार्य कर सकते है उनके पास ताप, प्रकाश, गर्मी, ठण्ड, ध्वनि, गति, टक्कर, दबाब आदि भौतिक डेटा के पता करने के लिए सेंसर है, उनके पास विशाल मेमोरी और गलतियों से सीखने में क्षमता है यही नहीं वे वातावरण के अनुकूल अपने आप को बना सकते है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के उपयोग

अब हम आपको कुछ उदाहरण देते है जिनमे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग किया जा रहा है।

Automation

Automation प्रक्रियाओ द्वारा होने वाले कार्यो को Computer द्वारा नियंत्रित किया जाता है और Businessman को यह पसंद भी है क्योंकि ऑटोमेशन से कार्य में दक्षता, गुणवत्ता, उत्पादकता बढ़ती है।

बेरोज़गारी

समाज में चिंता है कि ऑटोमेशन के कारण उनकी नौकरी छीन सकती है हालांकि यह सही है ऑटोमेशन श्रम का स्थान लेता है आज कई अर्थशास्त्री और समाजशास्त्री इससे डरते है कि AI अनेक नौकरियों पर कब्ज़ा कर लेगा और इंसान मुश्किल में आ सकता है।

अगर आपकी job रोबोट्स के हाँथ में न जाये तो आपको उनसे ज्यादा होशियार बनना होगा।

यही नहीं Daily Life में भी AI हमारा पीछा अनहि छोड़ने वाला यह तक कि वह हमारे घर में भी घुस आया है आपके घर में खाना बनाने से लेकर पोछा तक रोबोट्स द्वारा किये जा सकते है।

Business

टाटा कंसल्टिंग सर्विसेज ने एक अध्ययन किया जिसमे 835 अधिकारियों को शामिल किया गया उन्होंने बताया कि Artificial intelligence का Business में उपयोग करना बेहद जरुरी है खासतौर पर प्रतिस्पर्धा में।

Self Driving Car

AI के इस तेजी से होते विकास ने Transport को भी नहीं छोड़ा Apple, Google और Tesla जैसी Company Self Driving Car बनाने में AI का इस्तेमाल कर रही है।

सेल्फ ड्राइविंग में कृत्रिम बुद्धिमत्ता ब्रेक लगाना, लाइन बदलना, गैर बदलना, टक्कर होने से रोकना आदि गुण सीखती है।

Medical

AI चिकित्सा में अद्भुत कारनामे कर रहा है हाल ही में एक MIT Team ने कैंसर के इलाज के लिए AI आधारित मॉडल तैयार किया है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इन हिंदी नोट्स

Artificial intelligence India में अभी इतने जोरो से प्रस्तुत नहीं है परन्तु बहुत जल्द भारत में इसका use बढ़ेगा और लोगो कि Jobs पर भी असर पड़ेगा।

लेकिन वही कुछ new jobs भी Create होगी, AI के उपयोग से भारत काफी Advanced Country बन सकती है।

लेकिन समस्या तब होगी जब मशीनें खुद से निर्णय लेना सीख जाएगी और तब इंसानी दुनिया खतरे में आ सकती है।

हालांकि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के फायदे और नुकसान हमारे उपयोग करने के तरीके पर निर्भर करते है जिससे यह Technology वरदान या अभिशाप भी बन सकती है।

हम आशा करते है आपको इस लेख आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बारे में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की पूरी जानकारी पसंद आये होगा हमें उम्मीद है।

आप इस आर्टिकल को Share अवश्य करेंगे ताकि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है और कैसे काम करता है? के बारे में भारतीयों को जानकारी हो सके, धन्यबाद!

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी?

इसे रेट करने के लिए किसी स्टार पर क्लिक करें!

औसत रेटिंग 5 / 5. वोट काउंट: 1

अब तक कोई वोट नहीं! इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

हमें इस पोस्ट में सुधार करने दें!

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे सुधार सकते हैं?

Lakshya Narbariya
Lakshya Narbariyahttps://lakshya.narbariya.com
Lakshya Narbariya is passionately Blogger, Digital Marketer, Network Marketer, Online Business Consultant, Motivational Speaker & Author, who wants to help those who want to fulfill their dreams by doing something new and better in their life. Lakshya inspires the youth of India to move forward in life by immersing them in the pool of knowledge.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Recent Post

अरे, रुको!

1 लाख रुपये महीना कमाने के लिए बिज़नेस एवं ऑनलाइन पैसे कमाने के नये नये मौके जानिए- अभी Subscribe करें!