आज से 80 साल पहले शुरू हुए वीडियो गेम्स के दौर ने अलग-अलग पड़ाव अलग-अलग वर्षों में अपनी टेक्नोलॉजी में उन्नति को देखा है। समय-समय पर वीडियो गेम्स के आकार में कमी और गुणवत्ता तथा उनकी स्वा निर्धारण करने वाली गतिविधियों तथा आकर्षण में बढ़ोतरी देखने को मिली है। आज के समय में Video Games artificial intelligence की मदद से चलाए जाते हैं, जिससे उन्हें खेलने वाले जबकि को ऐसा लगता है, मानो वह किसी विलक्षण प्रतिभा वाले इंसान से मुकाबला कर रहा हो।

वीडियो गेम्स में पीढ़ी दर पीढ़ी उनकी technology और गुणवत्ता में आए परिवर्तन को जानते हैं:-

Low quality 2D

आज से 80 साल पहले शुरू हुए इन वीडियो गेम्स में बेरंग और बेहद ख़राब technology होता थी, परंतु ये अपने समय में बहुत लोकप्रिय थे।

High quality 3D Games in Artificial intelligence

दो कई दशकों बाद गेम्स में आई नई तकनीक से गेम खेलने का आनंद और भी बढ़ गया। और गेम बनाने वाली कंपनियां करोड़ो में कमाने लगीं। कई गेमों में गेम्स के Features ऐसे होने लगे की गेम स्वयं निर्णय लेने में सक्षम हो गया, और निर्माण हुआ एक ऐसी तकनीक का जो technology का नया पर्याय बनने वाली थी। THE ARTIFICIAL INTELLIGENCE [AI] .

AAA[TRIPLE (A)] GAMES

आज से लगभग दस साल पहले game industry में आया एक और मोड़, गेम के निर्माताओं ने गेम्स के features को और व्रहद बनाना चाहा और ईजाद किए triple A games जो उच्च quality और स्वयं निर्णय लेने में सक्षम किसी विकसित दुनिया की तरह थे। क्यूंकि इनमें आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक का इस्तेमाल किया जाना जरूरी था। जिससे की इन गेम्स को बार-बार commands देने की जरूरत ना पड़े जो कि इतने बड़े स्तर के गेम्स में possible ही नहीं था। इसीलिए इनमें ARTIFICIAL INTELLIGENCE का इस्तेमाल किया जाना जरूरी हो चला था।

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी?

इसे रेट करने के लिए किसी स्टार पर क्लिक करें!

औसत रेटिंग / 5. वोट काउंट:

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

हमें इस पोस्ट में सुधार करने दें!