Tuesday, August 9, 2022
HomeJankariInter Caste Marriage क्यों जरूरी है इसके फायदे और नुकसान

Inter Caste Marriage क्यों जरूरी है इसके फायदे और नुकसान

नमस्कार, इस इस Article में Inter Caste Marriage क्यों भारत जैसे देशों के लिए जरूरी है ? और इससे Advantages and Disadvantages क्या – क्या हो सकते है भारत में अंतर जातीय विवाह के लिए आज भी समाज जागरूक नहीं है और अगर कोई इंटर कास्ट मैरिज करता भी है तो समाज उसका बहिस्कार कर देता है।

देश में Love Marriage करने वाले ही Inter Caste Marriage को सीधे तौर पर Promote करते है लेकिन समाज के कुछ बुद्धिजीवी लोग सच्चा प्यार करने वालो को जुदा करने में समझदारी दिखाते है और कई बार तो जान से मारने की धमकी भी दी जाती है देश में आज ओनर किलिंग एक बड़ी समस्या बन गई है।

  1. क्या समाज का फैसला बड़ा है ?
  2. क्या Inter Caste Marriage सही या गलत है ?
  3. अंतर जातिय विवाह के फायदे और नुकसान क्या हो सकते है ?
  4. दुसरे धर्म और जाति में शादी करने से देश को क्या Benifits हो सकते है ?

इन सभी बिंदुओं पर यहाँ हमने चर्चा की है।

Inter Caste Marriage Meaning in Hindi (अंतरजातीय विवाह क्या है ?)

Inter Caste Marriage शब्द Inter+Caste+Marriage से मिलकर बना है जिसका मतलब होता है अपने से अलग जाति में विवाह यानी शादी करने वाले लड़का-लड़की की जातियां अलग-अलग होना।

उदहारण: लड़का हिन्दू परिवार से है और लड़की मुस्लिम परिवार से है तो इनके बीच होने वाली शादी अंतरजातीय विवाह कहलाती है।

इंटर कास्ट मैरिज सही या गलत इसके लिए हमें इसके फायदे और नुकसान को देखना होगा।

Inter Caste Marriage के फायदे

  1. जब दो अलग अलग जाति के लोगो के बीच विवाह होता है तो उनके विचार और दृश्टिकोण सीमित नहीं रहते है, वह हर दिन जीवन नए विचारो के साथ जीते है।
  2. अलग अलग त्योहारों को मनाने और उन्हें सीखने का मौका मिलेगा, मतलब घर में बहुत ख़ुशी और बहुत सारे उत्सव।
  3. शादी करने वाले जोड़ों की जातियों में अंतर होने के कारण उनके जीन में अंतर होता है जिससे की उनके बच्चे अधिक होशियार होते है उनके मुकाबले जो एक ही जाति में शादी करते है।
  4. विज्ञान के अनुसार, दो अलग अलग प्रजाति में शादी करना एक ही प्रजाति में शादी करने से ज्यादा बेहतर है।
  5. दो धर्मो और जातियो के लोगो के बीच मेलजोल बढ़ेगा।
  6. उंच नीच का भेदभाव खत्म हो जाएगा।
  7. चोरी छिपे शादियाँ बंद हो जाएगी क्योकि अब माता-पिता और समाज सभी लोग राजी है।
  8. रिश्ते अटूट और सच्चे होंगे।
  9. देश में एकता बढ़ेगी और जातीय भेदभाव मिट जायेगा।
  10. यहाँ आपका विचार लिखा जाएगा कमेंट में हमें बताये (आपके नाम के साथ)

कई पैरेंट्स समाज के दबाब में अपने बच्चों की खुशियों को ही भूल जाते है, भले ही उन्हें अंतर जातीय विवाह से दिक्कत न हो लेकिन समाज क्या क्या सोचेगा ? यह सवाल उन्हें काफी परेशान करता है, बता दे की समाज आप जैसे भले लोगो से बनता है समाज आपसे है न कि आप समाज से, समाज को आप चलाते है न कि समाज आपको।

युवाओं के लिए

आप अपने पैरेंट्स से उनकेअनुभव को हासिल कीजिये, वह आपके शुभचिंतक है, ऐसे किसी भी फैसले में उन्हें जरूर शामिल करे।

पैरेंट्स के लिए

सभी पैरेंट्स से अनुरोध है की आप भी अपने बच्चों के साथ एक दोस्ताना रिस्ता बनाये, यदि आप उन्हें बार बार यह अहसास दिलायेगे कि हमने तुम्हे पला पोसा है, बड़ा किया है, इसलिए तुम्हारा भी फ़र्ज़ बनता है की तुम हमारी बुढ़ापे में सेवा करो, यह एक मनोवैज्ञानिक तथ्य है की जितना ज्यादा आप दबाब बनायेगे स्वाभाविक इक्छा उतनी कम होती जाएगी।

स्पेशल टिप

Narbariya.com इस बात पर प्रकाश डालना चाहता है कि आज के समय में फैमिली का सपोर्ट नहीं होने के कारण अनेक Youngsters आत्महत्या कर लेते है, देश में कई केस हमें रोज देखने को मिलते है, जब एक 18 साल का नौजवान देश का प्रधानमंत्री चुन सकता है तो जीवनसाथी क्यों नहीं ?

क्या समाज का फैसला हमारे देश के संविधान से बड़ा हो गया है ?

बिलकुल नहीं !

देश का सर्वोच्च कानून संविधान के अनुसार, कोई भी लड़का जिसकी उम्र 21 वर्ष और लड़की जिसकी उम्र 18 है यानि वह अपनी मर्जी से शादी कर सकते है फिर चाहे वह किसी भी धर्म, जाति, राज्य, स्थान से ही क्यों न हो।

और अगर चाहे तो लड़का और लड़की की यदि उम्र 18 वर्ष या इससे अधिक है तो वह बिना शादी किये भी एक साथ रह सकते है लिव इन रिलेशनशिप कानून के तहत।

समाज के उन ढेकेदारो जो अपने आप को बहुत ही समझदार समझते है उनको समझना होगा की यदि वह वाकई एक सच्चे देशभक्त और समाजसेवी है तो उन्हें इंटर कास्ट मैरिज को बढ़ावा देना ही होगा, तभी भारत एक मजबूत देश बन सकता है।

जब अंत में रिश्तो को एक्सेप्ट करना ही है तो बच्चो को छिपकर शादी करने के लिए क्यों मजबूर करे, इस कथन को गलत साबित मत कीजिये कि ” बच्चों की ख़ुशी में ही माँ-बाप की ख़ुशी होती है” इसे इस्तेमाल कीजिये याद रखे बच्चो की ज़िंदगी तभी सफल होगी जब वह अपनी मनपसंद जगह शादी करेंगे और आपकी दुआ से उनका जीवन हँसी-ख़ुशी बीतेगा।

Inter Caste Marriage के नुकसान

हमें इससे कोई भी हानि दिखाई नहीं देती है, यदि आपको कुछ नुकसान नजर आता है जिससे देश को हानि हो, तो कृपया कमेंट में लिखे, सही साबित होने पर यहाँ अपडेट किया जाएगा।

सुप्रीम कोर्ट और सरकारों की राय में अंतर जातीय विवाह

  1. यदि दो वयस्क लड़का और लड़की शादी करते है तो कोई तीसरा उसमे दखल नहीं दे सकता यहाँ तक की परिवार, रिश्तेदार, समाज या खाप पंचायत भी नहीं – सुप्रीम कोर्ट !
  2. तमिलनाडु सरकार अंतर जातीय विवाह करने वालो को Rs. 50,000/- की मदद देती है।
  3. इस तरह की शादियों का विरोध करने वालो पर होगी कार्यवाही – सुप्रीम कोर्ट !
  4. कुछ राज्यों में जोड़ो को कानूनी सुरक्षा भी मिलती है।
  5. केंद्र सरकार द्वारा कपल्स को सिक्योरिटी देने के लिए कमेटी तैयार की जा रही है।
  6. आंबेडकर अंतर जातीय विवाह योजना के तहत शादी करने वाले कपल्स जो 2.5 लाख रुपये की आर्थिक मदद मिलेगी, यह योजना 2013-14 में शुरू हुई थी।

यह लेख समय-समय पर अपडेट किया जाता रहेगा।

Inter Caste Marriage Question Answers Hindi

इंटर कास्ट मैरिज इन बिहार क्या है ?

अस्प्रशयता रोकने के लिए प्रोत्साहन देना बिहार सरकार का लक्ष्य है इसलिए इस योजना की अंतर्गत अगर कोई गैर SC वर्ग का व्यक्ति SC वर्ग से शादी करता है तो उसे 2.50 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी, ताकि जातिवाद खत्म किया जा सके, परन्तु उसकी वार्षिक आय 3.50 लाख रुपये से अधिक न हो।जरुरी दस्तावेज-आधार कार्डबैंक पासबुकवोटर कार्ड शादी करने वाले जोड़े की एकल एवं संयुक्त फोटो।आवेदन आधिकारिक वेबसाइट से किया  जा सकता है।

इंटर कास्ट मैरिज के लिए क्या क्या डॉक्यूमेंट लगते है ?

इंटर कास्ट मैरिज या इससे सम्बंधित योजनाओं में निम्न डाक्यूमेंट लगते है-
1.आधार कार्ड
2.पैन कार्ड
3.वोटर कार्ड
4.जाति प्रमाण पत्र
5.जोड़ों की संयुक्त फोटो
6.जन्म तारीख प्रमाण पत्र
7.आय प्रमाण पत्र
8.मैरिज सर्टिफिकेट
सरकार की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर फॉर्म भर सकते है।

इंटर कास्ट मैरिज योजना महाराष्ट्र क्या है ?

इंटर कास्ट मैरिज योजना महाराष्ट्र के अनुसार, देश में एकता को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई योजना है जो कि महाराष्ट्र सरकार ने अपने राज्य में लागू कि है हालांकि सभी राज्यों के लिए अलग अलग प्रवंधन है परन्तु इस राज्य के निवासी यदि अंतर जातीय विवाह करते यही तो उन्हें सरकार की तरफ से 3 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी ताकि वह अपना परिवार शुरू कर सके, क्योंकि जब कोई युवा इस तरह का विवाह करता है तो उसे समाज से बेदखल कर दिया जाता है ऐसे में ओनर किलिंग परेशानी बन जाती है।
दरअसल 50000 रुपये राज्य सरकार और 2.50 लाख रुपये डॉ. आंबेडकर फाउंडेशन द्वारा दिए जाते है साथ ही यह ध्यान रखे कि शादी करने वाले जोड़े में से कोई एक sc/st वर्ग से हो, यह राशि सीधे बैंक अकाउंट में भेजी जाती है।

इंटर कास्ट मैरिज एक्ट इन इंडिया क्या है ?

इंटर कास्ट मैरिज एक्ट के अनुसार कोई भी लड़का और लड़की जिसकी पहले शादी न हुई हो और वह दोनों बालिग हो तो उन्हें इस देश इंडिया के संविधान के द्वारा अपनी मर्जी से किसी भी धर्म के लड़का लड़की या जाति के लड़की लड़की से शादी करने का अधिकार है स्पेशल मैरिज एक्ट के अनुसार !
साथ ही यदि शादी हिन्दू मैरिज एक्ट के तहत होती है और शादी करने वाले लोगो में दोनों में से कोई एक दलित वर्ग से सम्बंधित है तो उस जोड़े को सरकार द्वारा इनाम प्रदान किया जाता है।
इंटर कास्ट मैरिज करिये और देश बदलिए !!!

क्या हिन्दू धर्म Inter caste marriage को सही मानता है ?

हिन्दू धर्म के अनुसार उसके लगभग सभी प्रकार की बातों पर लिखा है तो इसका मतलब है कि शादी के लिए में भी लिखा होगा।
जब लड़की और लड़के दोनों की मर्जी से विवाह हो रहा है तो उनकी बातों को भी सुनना चाहिए ओनर किलिंग में कुछ नहीं रखा है अगर वह काबिल है तो उनकी शादी करे, काबिल नहीं है तो पहले उन्हें काबिल बनाये उसके बाद उनकी शादी कराये।
एक बात हमेशा याद रखनी चाहिए कि कभी भी माँ बाप को या किसी को भी लड़की की मर्जी के खिलाफ शादी नहीं करवानी चाहिए और ऐसा होने पर यह असली पाप है न कि किसी से प्यार करना।
परन्तु अगर कोई किसी कको प्यार प्रशंग में फसा रहा है तो वह गलत है इसलिए प्रेम का सदुपयोग करे।

आख़िरकार

देश को युवा ही है जो इंडिया को धरती का Best बना सकता है, इसलिए युवाओ से अनुरोध है की वह Inter Caste Marriage की ओर कदम उठाये और इसे ज्यादा से प्रमोट करे ताकि Youngsters आत्महत्या जैसे कदम उठाने से बच सके।

आर्टिकल पसंद आया हो तो हर माता-पिता और बच्चो के साथ इसे जरूर शेयर करे।

हम शपथ लेते है जात – धर्म के नाम पे होती लड़ाई, झगङे, दंगा – फसाद, नहीं करेंगे

इंटरकास्ट मैरिज करने वाले लोगो को मारेंगे नहीं

Narbariya.com
Lakshya Narbariyahttps://lakshya.narbariya.com
लक्ष्य नरबरिया, बीएससी कंप्यूटर साइंस में ग्रेजुएट, ब्लॉगर, यूटूबर, ऑथर, डिजिटल मार्केटर, नेटवर्क मार्केटर तथा Narbariya.com के फाउंडर है। जो इस Hindi Tech Blog पर टेक्नोलॉजी पर आधारित विभिन्न जानकारी साझा करते हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -spot_img