कंप्यूटर की विशेषताएं क्या है?

कंप्यूटर की कुछ विशेषताएं निम्नलिखित हैं-

1. गति (Speed):- कंप्यूटर का सबसे ज्यादा महत्व अपनी तेजी से काम करने की क्षमता के कारण हैं यदि वह तीव्रता से काम ना कर पाता तो शायद मनुष्य के लिए चंद्रमा पर पहुंचना संभव नहीं हो पाता, ना ही मौसम की भविष्यवाणी उचित समय पर हो पाती यदि कल के मौसम की भविष्यवाणी हम आज ना करके हफ्ते भर बाद करें तो ऐसी भविष्यवाणी का मतलब ही क्या रह जाता इसके अतिरिक्त यदि हमारे हाथ से काम करने और कंप्यूटर से काम करने के समय में बराबरी आ जाती तो फिर कंप्यूटर जैसी मशीन का फायदा ही क्या कंप्यूटर का महत्व इसलिए है कि वह तेज गति से कार्य कर सकता है.

2. Storage:- जिस तेजी से कंप्यूटर डाटा प्रोसेसिंग करते हैं उतनी ही तेजी से उन्हें डाटा उपलब्ध भी कराना पड़ता है यदि खूब तेजी से काम करने वाली मशीन तो बना ली जाए परंतु इतनी तेजी से उसे डाटा ना दिया जाए तो मशीन की तेजी में काफी कमी आ जाएगी क्योंकि डाटा प्राप्ति के लिए मशीन इंतजार करती रहेंगी और समय खराब होता रहेगा अतः कंप्यूटर की प्रोसेसिंग के लिए डाटा तुरंत उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जाती है दो तरह की मेमोरी कंप्यूटर में होती है एक Internal Memory जिसे main Memory भी कहा जाता है और दूसरी अतिरिक्त मेमोरी, इनमें से Internal Memory काफी छोटी होती है और कुछ समय तक स्टोरेज कर सकते हैं और वही main memory जिसमें काफी ज्यादा डाटा स्टोर किया जा सकता है लंबे समय तक, मुख्य मेमोरी को आप इंसान याददाश्त की तरह भी समझ सकते हैं.

3. शुध्दता:- यूं तो हम कंप्यूटर की त्रुटियों के बारे में अखबारों में पढ़ते रहते हैं और कई बार तो लोग चुटकुलों में उनका मजाक भी उड़ाते रहते हैं पर यह बात सत्य है कि कंप्यूटर बहुत कम त्रुटियां करते हैं भी काफी हद तक अच्छे रिजल्ट देते हैं मानवीय गलतियों की वजह से यह सारी त्रुटियां कभी-कभी कंप्यूटर कर देता है यह सब तभी होता है जब या तो गलत डाटा कंप्यूटर को दिया गया हो या प्रोग्रामर ने सही तरीके से प्रोग्राम ना लिखा हो कभी-कभी मशीनों में विभिन्न कारणों से खराबी आने के कारण भी गलत परिणाम आ जाते हैं ऐसी खराबियों है कि गलती होने पर भी उस मशीन को तुरंत सूचना मिल जाती है वह हमें बता देती है.

4. व्यापक उपयोगिता:- कंप्यूटर द्वारा संपादित कार्यों की व्यापकता दिनों दिन बढ़ती ही जा रही है कोई भी जटिल कार्य कंप्यूटर पर कराने के लिए उस कार्य को इस तरह संपादित किया जाता है कि उसे निश्चित क्रम में बांधा जा सके फिर डाटा को इस तरह एक पूर्व निश्चित सांचे में डाला जाता है कि वह कंप्यूटर को स्वीकार्य हो सके.

5. Automation:- एक बार प्रोग्राम एवं डाटा तैयार हो जाने एवं त्रुटि रहित हो जाने पर उसे कंप्यूटर पर चलाया जा सकता है उसे कंप्यूटर में स्टोर कर चला देने के बाद बार-बार मानवीय सहायता की आवश्यकता नहीं होती है एक के बाद एक निर्देशों की शीघ्रता से पालन करता चला जाता है एवं सही परिणाम निकालकर आउटपुट उपकरण पर प्रेषित कर देता है.

6. सक्षमता:- कंप्यूटर चुकी एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है अतःiइसमें कार्यभार अधिक होने पर भी थकावट के कोई चिन्ह पर लक्षित नहीं होते हैं कई आंतरिक मशीनें कार्यभार अधिक होने पर खराबी के लक्षण देने लगती हैं पर इलेक्ट्रॉनिक मशीन में ऐसा नहीं होता यदि उचित वातावरण में इसे प्रयोग में लाया जाए तो यह बहुत ही सख्त क्षमता से कार्य कर सकती हैं मानव मस्तिक से यदि लगातार कार्य कराया जाए तो एक समय बाद उसे थकावट आ सकती है और एकाग्रता भंग होने लगती है इस तरह से संतुलन खोकर गलतियां करने लगता है परंतु कंप्यूटर को यदि लाखों Calculation करने को भी दिये जाएं तो भी वह भी उसी क्षमता से कार्य करेगा जितनी क्षमता से उसने शुरू में कार्य किया था.तो यह थी कंप्यूटर की उच्च श्रेणी की विशेषता.

कंप्यूटर की विशेषताएं क्या है?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

शीर्ष तक स्क्रॉल करें